ALL लेख
अडानी के लिए ऑस्ट्रेलिया में बढ़ी मुश्किलें
October 26, 2020 • Anil Kumar

 

ऑस्ट्रेलिया में अडानी की विवादास्पद कारमाइकल कोयला खदान की मंजूरी हो सकती है रद्द, खोदाई से क्षेत्रीय जलवायु और ग्रेट बैरियर रीफ को ख़तरा

 

आज, ऑस्ट्रेलिया के दो युवाओं ने अपनी सरकार से अडानी समूह को कारमाइकल कोयला खदान में खोदाई के लिए मिली पर्यावरणीय अनुमतियों को निरस्त करने की माँग रखी है। इन युवाओं का दावा है कि नए सबूतों से पता चलता है कि अडानी कोयला खदान उत्सर्जन से ग्रेट बैरियर रीफ, जो कि एक वर्ल्ड हेरिटेज है, उसे भी ख़तरा है।

टाउनसविल से सत्रह वर्षीय ब्रुकलिन ओ'हर्न और केर्न्स से उन्नीस वर्षीय क्लेयर गैल्विन के लिए पैरवी करने वाले एनवीरोंमेंटल जस्टिस ऑस्ट्रेलिया के वकीलों ने कहा कि तीन स्वतंत्र विशेषज्ञ रिपोर्ट पर्याप्त रूप से नए साक्ष्य प्रदान करती हैं जिनके आधार पर पर्यावरण मंत्री, सुसैन ले, निश्चिन्त हो कर अपनी शक्तियों का उपयोग कर अडानी को मिली पर्यावरणीय स्वीकृतियों को रद्द कर सकती हैं।

इस संदर्भ में ब्रुकलिन ओ'हर्न और क्लेयर गैल्विन ने कहा, “जब से अदानी की खदान को मंजूरी मिली थी, हम ग्रेट बैरियर रीफ को जलवायु परिवर्तन के कारण कई बड़े पैमाइने की कोरल ब्लीचिंग (प्रवाल विरंजन) घटनाओं से पीड़ित होता देखते हुए बड़े हुए हैं। हम जानते हैं कि अगर अडानी की विशाल कारमाइकल कोयला खदान आगे बढ़ती है, तो यह दशकों के कार्बन उत्सर्जन को लॉक इन कर देगी और हमारे शानदार रीफ को नुकसान होगा।"

अपने वकीलों के माध्यम से, इन युवा महिलाओं ने जलवायु विशेषज्ञों और अर्थशात्रियों से सबूत प्राप्त किए हैं जिनसे यह पता चलता है कि प्रस्तावित खदान से वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में वृद्धि होगी और ग्रेट बैरियर रीफ पर एक महत्वपूर्ण नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा, जिससे इसका वर्ल्ड हेरिटेज (विश्व धरोहर) का दर्जा भी जोखिम में पड़ सकता है।

जलवायु वैज्ञानिक बिल हैर, निदेशक, जलवायु विश्लेषिकी और सहायक प्रोफेसर, मर्डोक विश्वविद्यालय द्वारा एक विशेषज्ञ रिपोर्ट अडानी के कारमाइकल कोयला खदान और हाइड पार्क और चाइना स्टोन कोयला खदानों से निर्यात किए गए उत्सर्जन के परिणामस्वरूप ग्रेट बैरियर रीफ को भारी नुकसान का अनुमान लगाती है जिसकी मूल अनुमोदन में पहचान नहीं की गई थी।

रिपोर्ट में पाया गया है कि:

  • कारमाइकल कोल माइन और रेल इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट60 वर्षों के लिए प्रति वर्ष 60 मिलियन टन CO2 उत्सर्जन कर सकता है, 10,230 वर्ग किलोमीटर की रीफ को नष्ट करना या क्षति पौहचाते हुए--न्यूयॉर्क शहर के तेरह गुना से अधिक क्षेत्र।
  • 2020में ग्रेट बैरियर रीफ ने सबसे व्यापक कोरल ब्लीचिंग (प्रवाल विरंजन) रिकॉर्ड की गयी, और पहली बार गंभीर ब्लीचिंग (विरंजन) ने ग्रेट बैरियर रीफ के सभी तीन क्षेत्रों को प्रभावित किया।
  • आज तक की पूर्व-औद्योगिक (1850-1900)के ऊपर 1°C के करीब ग्लोबल वार्मिंग से ग्रेट बैरियर रीफ को पहले से ही काफी नुकसान हो चूका है और इससे काफी नकारात्मक रूप से उसकी आउटस्टैंडिंग यूनिवर्सल वैल्यू (उत्कृष्ट सार्वभौमिक मूल्य) प्रभावित हुआ है, जिससे इसकी अखंडता और अक्षुण्णता में समझौता हुआ है।
  • 1.5डिग्री सेल्सियस की ग्लोबल वार्मिंग से कम से कम ग्रेट बैरियर रीफ की आउटस्टैंडिंग यूनिवर्सल वैल्यू (उत्कृष्ट सार्वभौमिक मूल्य) को गंभीर नुकसान होगा और2 ° C की ग्लोबल वार्मिंग संभवतः इसे नष्ट कर देगा।

 “हमारे उत्तर क्वींसलैंड समुदाय जीवित रहने के लिए एक स्वस्थ रीफ पर निर्भर हैं। हम रीफ पर, ऐसे समुदाय जिनके व्यवसाय और रोजगार इस पर निर्भर हैं, और आने वाली पीढ़ियों को जो एक स्वस्थ रीफ का आनंद लेने का मौका कभी नहीं पा सकती हैं, जलवायु परिवर्तन के विनाशकारी प्रभावों के बारे में गहराई से चिंतित हैं।"

“हमारे मित्र पर्यटन में और गोता लगाने वाली नावों में काम करते हैं। तीनों खानों से कोयला जलाने से होने वाले प्रभाव पर्यटन और आतिथ्य उद्योगों पर भारी पड़ेगें। यदि यह खदान आगे बढ़ती है तो केयर्न्स जैसे भरोसेमंद समुदाय लगातार कोरल ब्लीचिंग (प्रवाल विरंजन) से उबरने के लिए संघर्ष करेंगे, विशेष रूप से कोरोनावायरस महामारी के अतिरिक्त प्रभावों के साथ।"

यह दोनों युवा आगे कहती हैं, "ऑस्ट्रेलिया के राष्ट्रीय पर्यावरण कानून के तहत आने वाली पीढ़ियों के लिए हमारे शानदार ग्रेट बैरियर रीफ की रक्षा करना संघीय सरकार का दायित्व है।"

Source: Climate कहानी