ALL लेख
अगले तीन सालों में 1000 दलित स्टार्टअप्स खोलने की तैयारी में केंद्र सरकार
September 28, 2020 • Anil Kumar

सोशल जस्टिस ऐंड एम्पॉवरमेंट मिनिस्ट्री के तहत प्रोगाम को संचालित किया जाएगा जिसका नाम अंबेडकर सोशल इनोवेशन इन्क्यूबेशन मिशन (ASIIM) है। एएसआईआईएम 2020-24 के बीच कुल 308 करोड़ रुपये के बजट के साथ चलेगा।

 

दलित टोकीज की मदद करने के लिए मोदी सरकार ऐसी योजना लाने की तैयारी में है जिसके तहत 1000 दलित स्टार्टअप खोले जा सकते हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार सरकार दलित यूथ के फ्रेश आइडिया पर स्टार्टअप्स की शुरुआत की जाएगी। सोशल जस्टिस ऐंड एम्पॉवरमेंट मिनिस्ट्री के तहत प्रोगाम को संचालित किया जाएगा जिसका नाम अंबेडकर सोशल इनोवेशन इन्क्यूबेशन मिशन (ASIIM) है। 

308 करोड़ का बजट

एएसआईआईएम 2020-24 के बीच कुल 308 करोड़ रुपये के बजट के साथ चलेगा। यह धनराशि सामाजिक न्याय मंत्रालय के "एससी के लिए वेंचर कैपिटल फंड" के माध्यम से निकाली जाएगी, जिसे IFCI वेंचर कैपिटल फंड लिमिटेड द्वारा प्रबंधित किया जाता है।

क्या है यह प्रोग्राम

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दलित समाज से आने वाले और दिव्यांग युवक जो किसी टेक्नालॉजिकल इंस्टिट्यूट में पढ़ाई करते हैं या फिर प्राइवेट सेक्टर में काम करते हैं, उनके फ्रेश आइडिया के आधार पर इनोवेटिव प्रॉडक्ट्स, सर्विस और सलूशन्स तैयार किया जाएगा। इस मकसद को पूरा करने के लिए ASIIM की तरफ से नैशनल सोशल इनोवेशन हब तैयार किया जाएगा।

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के सचिव, आर सुब्रह्मण्यम ने कहा कि लॉन्च के लिए परिपक्व होने वाले विचारों को दलित व्यवसायों को निधि देने के लिए चलने वाली योजना "वीसीएफ फॉर एससी" के तहत वाणिज्यिक बैंकों, उद्यम पूंजी कोषों और परी निवेशकों के माध्यम से सहायता प्रदान की जाएगी। 

Source: Agency news