ALL लेख
धधक रहे पिंडर मे जंगल। डीएफओ को पता नही, रेंजर का फोन बंद
October 10, 2020 • Anil Kumar

गिरीश चंदोला 

धधक रहे पिंडर मे जंगल। डीएफओ को पता नही, रेंजर का फोन बंद

 

मध्य पिंडर रेंज थराली के कंपार्टमेंट नंबर 8 एवं 9 में पिछले 3 दिनों से जारी वनाग्नि अभी तक शांत नहीं हो पाई है । 3 दिनों से जारी इस अग्नि में लाखों रुपए की वन संपदा जहां स्वाहा हो गई है, वहीं कई गांव के घास के इलाके भी इस दावाग्नि की भेंट चढ़ गये हैं।

इस वन से जहां सुना,मेन एवं डूंगरी के ग्रामीण लाभ पाते है,वही अक्टूबर से मार्च तक पिण्डर वार के सुनला,काखडा,सिमलसेड सहित दर्जन भर से अधिक गाँव भी चारा पत्ती के लिए इसी क्षेत्र पर निर्भर रहते है।

बता दें कि शुक्रवार को अचानक सूना से 2 किलोमीटर की दूरी पर कीटोला नामक स्थान पर अचानक आग दिखाई दी थी, लेकिन तीव्र पहाड़ी ढाल होने के चलते वन कर्मचारी यहां पहुंचने में असमर्थ रहे, जिस कारण आग नहीं बुझ पाई और अब तीसरे दिन भी लगातार है।

आग जंगल में फैलती जा रही है। हालांकि वन कर्मियों का कहना है कि आसपास के ग्रामीणों का सहयोग न मिल पाने के कारण आग पर काबू पाया जाना मुश्किल प्रतीत हो रहा है। लेकिन वन विभाग की टीम लगातार आग पर नियंत्रण पाने के लिए की कोशिश कर रही है।

जानकारी लेने के लिए थराली स्थित मध्य पिंडर रेंज के रेंजर अधिकारी तिलोक सिंह बिष्ट से लगातार संपर्क किया जाता रहा लेकिन उनका मोबाइल पूरे दिन स्विच ऑफ ही रहा। जिस कारण अधिक जानकारी एवं नुकसान के बारे में अधिक बता पाना असंभव प्रतीत हो रहा है। सूना के प्रधान कैलाश चंद देवराडी का कहना है कि वह ग्रामीणों को प्रेरित कर रहे हैं शीघ्र ही ग्रामीण का एक दल घटनास्थल की ओर जाने की तैयारी में है।

वही डीएफओ आशुतोष सिंह ने कहना है। आग लगने की सूचना उनको नही मिली है। इस संदर्भ मैं तत्काल कर्मचारियों को सूचित किया जायेगा

Source :Parvatjan