ALL लेख
गजब : दो साल से अंधकार में डूबा गाँव,कोई सुध लेने वाला नही|
August 31, 2020 • Anil Kumar

बांदा /  जिले में सरकार की विद्युतीकरण योजना का बिजली अधिकारी खुलेआम माखौल उड़ाते नजर हैं।इस जिले में उदाहरण स्वरूप एक गांव का उल्लेख कर रहें हैं जहां दो वर्ष विद्युतीकरण होने के पश्चात भी आज तक उन तारों में बिजली का प्रवाह नहीं किया गया! यह तो यही दर्शाता है की प्रधानमंत्री की विद्युत सौभाग्य योजना का जिले के अधिकारी व कर्मचारी मजाक की स्थिति पर लाकर खड़ा कर दिया है।

इससे ज्यादा अफसोस जनक बात और क्या होगी?इस उदासीन बिजली विभाग के अधिकारियों की कार्यशैली पर ग्रामीण क्षेत्र के निवासी त्रस्त व परेशान नजर आते हैं, लेकिन 2 वर्ष बीत जाने के बाद भी अभी तक बिजली विभाग का कोई भी जिम्मेदार अधिकारी के द्वारा गांव में बिजली की अव्यवस्था को दूर करने की जरूरत नहीं महसूस की गई! और तो और विभाग के द्वारा बिजली सप्लाई न होने के बावजूद भी, 2 वर्ष पहले ही विद्युत मीटर भी लोगों के घरों में टांग दिए गए थे, जो कि वर्तमान में धूल फांकते नजर आते हैं।

बबेरू तहसील क्षेत्र का यह बदनसीब ग्राम पंचायत अलिहा का यह नजारा है lयहां विद्युत विभाग के अफसरान प्रधानमंत्री द्वारा हर गांव को रोशन करने के उद्देश्य से चलाई गई पंडित दीनदयाल उपाध्याय विद्युतीकरण सौभाग्य योजना को अधिकारी पलीता लगा रहे हैं। इस अव्यवस्था पर संबंधित ग्राम पंचायत के ग्रामीणों के द्वारा बताया गया कि विभाग के लोग ध्यान दे रहे हैं और न ही जनप्रतिनिधि, ग्रामीणो के अनुसार मजे की बात तो यह है कि उनकी विधानसभा और संसदीय क्षेत्र के जनप्रतिनिधि चुनाव जीतने के बाद से आज तक इस गांव में अपने कदम नहीं रखें तो अपनी इस समस्या का समाधान किसके माध्यम से करवाएं समझ नहीं आ रहा। आखिर वह यही नहीं समझ रहे की यह दोष सिस्टम का है या सरकार का।

बिजली की समस्या को बताते राजा भैया ने बताया कि मीटर लगाए हुए 2 वर्ष बीत गए हैं लेकिन अभी तक बिजली नहीं आई । ट्रांसफार्मर भी लगा है लेकिन उस पर भी कनेक्शन नहीं किया गया। जो मीटर लगे हैं वह जर्जर अवस्था में हो गए हैं हम गरीबों की सुनने वाला कोई नहीं है।

ग्रामीण मातादीन बर्मा ने अपनी पीड़ा बताया कि हमारे विधानसभा और संसदीय क्षेत्र से जीते हुए जनप्रतिनिधि वोटिंग के दौरान वोट मांगने आए थे तब से आज तक हमारे गांव में किसी भी जनप्रतिनिधि का आगमन नहीं हुआ ! अब ऐसी स्थिति में हम अपनी समस्या का समाधान कैसे करवाएं और अपनी व्यथा किससे बताएं।

एक तरफ जहां सत्तापक्ष बीजेपी सरकार आम जनमानस की सुरक्षा और व्यवस्थाओं की बात करते नजर आती है वही जनपद बांदा में बिजली विभाग के अधिकारी सरकार के मंसूबों और ग्रामीण क्षेत्रों के रहने वाले ग्रामीणों पर सितम ढाते नजर आ रहे हैं ।

प्रधानमंत्री की विद्युत सौभाग्य योजना के द्वारा गांव के विद्युतीकरग्रामीण क्षेत्र में इस व्यवस्था को लेकर काफी आक्रोश व्याप्त है, वही जनप्रतिनिधियों के रवैये से भी गांव की जनता खुश नहीं है।

Source :Agency news