ALL लेख
जानकी सेतु आज से आमजन के लिए खुलेगा, सात साल का लंबा इंतजार होगा खत्म
November 20, 2020 • Anil Kumar

मुनिकीरेती व स्वर्गाश्रम को जोड़ने वाला बहुप्रतिक्षित जानकी सेतु आज आम जनता के लिए खुल जाएगा। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत आज जानकी सेतु का लोकर्पण करेंगे। ये सेतु करीब सात वर्ष के लंबे इंतजार के बाद तैयार हुआ है।

 

ऋषिकेश /  टिहरी और पौड़ी जनपद के मुनिकीरेती व स्वर्गाश्रम को जोड़ने वाला बहुप्रतिक्षित जानकी सेतु आज आम जनता के लिए खुल जाएगा। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत आज जानकी सेतु का लोकर्पण करेंगे। करीब सात वर्ष के लंबे इंतजार के बाद तैयार हुआ जानकी सेतु तीर्थनगरी के तीर्थाटन, पर्यटन और क्षेत्र के विकास के लिए महत्वपूर्ण साबित होगा।

मुनिकीरेती के कैलाश गेट स्थित पूर्णानंद घाट से स्वर्गाश्रम के वेद निकेतन के बीच गंगा नदी पर 346 मीटर लंबा और 3.9 मीटर चौड़ा थ्री-लेन ब्रिज तैयार हो गया है। इस पुल के निर्माण का काम 31 मार्च 2013 में शुरू हो गया था। तत्कालीन कांग्रेस सरकार के मुखिया विजय बहुगुणा ने इस पुल का शिलान्यास किया था। मगर, तमाम अड़चनों के कारण यह पुल तय समय पर पूरा नहीं हो पाया। बहरहाल क्षेत्रीय विधायक व वर्तमान में कृषि मंत्री सुबोध उनियाल के प्रयासों से पिछले तीन वर्षों में इस पुल के निर्माण में तेजी आई और अब करीब 59 लाख रुपये की लागत से यह थ्री लेन का जानकी सेतु तैयार हो चुका है।

 

जानकी सेतु के निर्माण के बाद इसके लोकार्पण को लेकर भी खासी राजनीति गरम रही। आखिर अब शुक्रवार को सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, कबीना मंत्री व क्षेत्रीय विधायक सुबोध उनियाल की अध्यक्षता में इस पुल का लोकर्पण करेंगे।

बहुप्रतिक्षित जानकी सेतु के लोकार्पण को लेकर व्यापक तैयारियां की गई है। जानकी सेतु को फूल मालाओं से खूबसूरती के साथ सजाया गया है। लोनिवि के अधिशासी अभियंता मो. आरिफ खान ने बताया कि दिन में 11:45 बजे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पूर्णानंद मैदान में हेलीकॉप्टर से पहुंचेंगे, जिसके बाद दोपहर 12 बजे जानकी सेतु का उद्घाटन किया जाएगा।

 

रामझूला पुल का भार होगा कम

मुनिकीरेती-स्वर्गाश्रम के बीच वर्तमान में आवाजाही के लिए रामझूला पुल पर ही पूरा दारोमदार है, लेकिन जानकी सेतु के खुलने के बाद रामझूला पुल का भार कम हो जाएगा। रामझूला पुल पर आम दिनों में तो भीड़ रहती ही है, कुंभ और कांवड़ मेले जैसे आयोजनों के दौरान इस पुल पर भारी दबाव बढ़ जाता है। कुंभ मेले के दौरान तो यहां पांटून ब्रिज का निर्माण करना पड़ता था। बीते वर्ष लक्ष्मणझूला पुल के बंद होने के बाद रामझूला पुल का दबाव और भी अधिक बढ़ गया था, जिससे जानकी सेतु के निर्माण को लेकर और भी दबाव बढ़ने लगा था।

 

दो घंटे ऋषिकेश-मुनिकीरेती के बीच बंद रहेगा यातायात

जानकी सेतु के लोकार्पण के लिए यहां पहुंच रहे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के कार्यक्रम को देखते हुए दोपहर 12 बजे से दो बजे तक ऋषिकेश-मुनिकीरेती के बीच यातायात बंद रहेगा। थाना प्रभारी निरीक्षक मुनिकीरेती आरके सकलानी ने बताया कि मुनिकीरेती में लोनिवि तिराहे से ट्रैफिक को डायवर्ट किया जाएगा। जबकि ऋषिकेश से मुनिकीरेती की ओर आने वाला ट्रैफिक भी इस बीच चंद्रभागा पुल से डायवर्ट रहेगा। उन्होंने बताया कि पूर्णानंद घाट पर अंत्योष्ठी के चलते शव वाहनों को यहां आने की अनुमति होगी। ऐसे वाहन मधुवन आश्रम तिराहे से नहीं, बल्कि क्रांति चौक से जीएमवीएन अतिथि गृह होते हुए घाट पर जाएंगे।

 

Sources:जेएनएन