ALL लेख
कोरोना इफेक्ट: दशहरा और रामलीला के आयोजन पर असमंजस
October 12, 2020 • Anil Kumar

शहर में होने वाली विभिन्न कमेटियों के रामलीला मंचन को लेकर असमंजसता बढ़ती जा रही है। कई रामलीला कमेटियों ने एक हफ्ते पहले इसके लिए जिला प्रशासन से लिखित अनुमति मांगी थी। लेकिन प्रशासन की ओर से अभी तक कोई दिशा निर्देश जारी न होने से भ्रम बढ़ता जा रहा है। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा शर्तों के साथ धार्मिक आयोजन में शामिल होने की छूट के आदेश के बाद रामलीला कमेटियों ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। 

राजपुर स्थित आदर्श रामलीला सभा अपने 71 वें आयोजन के लिए तैयार है। उसने इसके लिए प्रशासन ने अनुमति भी मांगी है। सभा के प्रधान योगेश अग्रवाल के अनुसार, सभी कलाकार स्थानीय व पुराने हैं और उन्हें लम्बी तैयारी की जरूरत नहीं। इसलिए कोविड अनलॉक में सालों पुरानी परंपरा को बनाए रखने के लिए आयोजन का निर्णय लिया गया था, लेकिन जिला प्रशासन से उन्हें अनुमति नहीं मिली है।

इसी तरह भंडारी चौक रामलीला बाजार की श्री रामलीला कला समिति ने भी प्रशासन से एक हफ्ते पहले मंचन की अनुमति मांगी थी। महासचिव बिजेन्द्र बंसल ने बताया कि सोमवार को इस विषय पर डीएम से मुलाकात की जाएगी। मथुरा, वृंदावन के कलाकार यहां आना चाहते हैं।

पर्वतीय रामलीला कमेटी नहीं कर रही मंचन
कोविड परिस्थितियों के कारण पर्वतीय रामलीला कमेटी कुमाउनी में होने वाली रामलीला का मंचन नहीं कर रही है। इसकी जगह नवरात्र में भगवान राम की मूर्ति व कलश स्थापना धर्मपुर के रवि मित्तल मेमोरियल जूनियर हाईस्कूल में की जाएगी। महासचिव मदन जोशी ने बताया कि सिर्फ आठ-दस लोगों की मौजूदगी में पूरे नवरात्र पूजा, हवन, आरती, रामायण का पाठ किया जाएगा। मियांवाला, बालावाला, सहस्रधारा रोड, नथुवावाला, नत्थनपुर इलाकों में होने वाली रामलीला मंचन भी इस बार नहीं हो रहे हैं।

बन्नू बिरादरी के दशहरा उत्सव पर भी असमंजस
बन्नू बिरादरी द्वारा दून के परेड ग्राउंड में होने वाले विजय दशमी उत्सव को लेकर भी अभी स्थिति साफ नहीं है। कोविड के कारण दशहरा आयोजन की तैयारियां हालांकि अभी तक शुरू नहीं की गई हैं, न ही प्रशासन से किसी तरह की इजाजत ली गई है। लेकिन कमेटी से जुड़े कई पदाधिकारी चाहते हैं कि भले ही छोटा, संक्षिप्त आयोजन ही किया जाना चाहिए। बन्नू बिरादरी के दशहरा आयोजन में हर साल भारी भीड़ उमड़ती है और सीएम इस कार्यक्रम में खासतौर पर मौजूद रहते हैं।  

Source:Hindustan News