ALL लेख
पश्चिम बंगाल में भाजपा के 12 घंटे के कल्याणी बंद का मिला-जुला असर रहा
November 2, 2020 • Anil Kumar

भाजपा ने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को छोड़कर उसमें शामिल हो जाने के चलते तृणमूल ने उसकी हत्या कर दी। तृणमूल कांग्रेस ने इस आरोप का खंडन किया है। गायेशपुर शहर में बंद के दौरान भाजपा की युवा शाखा भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) ने सुबह छह बजे मोटरसाइकिल रैली निकाली जिसे पुलिस ने रोक दिया।

 

कल्याणी /  पश्चिम बंगाल के नादिया जिले में अपने ‘पार्टी कायकर्ता’ की कथित हत्या के विरोध में भाजपा द्वारा कल्याणी उपसंभाग में बुलाये गये 12 घंटे के बंद के आह्वान पर मिली-जुली प्रतिक्रिया रही। कई दुकानें बंद रहीं जबकि यातायात सामान्य रहा। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। गायेशपुर शहर में रविवार को बिजोय सिल नामक 34 एक व्यक्ति अपने घर के समीप एक पेड़ से फांसी के फंदे से लटका मिला था। भाजपा ने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को छोड़कर उसमें शामिल हो जाने के चलते तृणमूल ने उसकी हत्या कर दी। तृणमूल कांग्रेस ने इस आरोप का खंडन किया है। गायेशपुर शहर में बंद के दौरान भाजपा की युवा शाखा भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) ने सुबह छह बजे मोटरसाइकिल रैली निकाली जिसे पुलिस ने रोक दिया। सूत्रों के अनुसार कानून प्रवर्तकों ने सामान्य जनजीवन को बाधित करने का प्रयास करने पर कुछ भाजयुमो कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया और उपसंभाग के कई इलाकों में गश्त भी की। 

सिल के रिश्तेदार और शहर के भाजयुमो उपाध्यक्ष बप्पा सिल ने कहा, ‘‘पिछले साल लोकसभा चुनाव से पहले सिल ने तृणमूल कांग्रेस छोड़ दी थी और भाजपा में शामिल हो गये थे। भाजपा में शामिल होने और गायेशपुर नगरपालिका क्षेत्र में भाजपा के प्रभाव को बढ़ाने में भूमिका निभाने को लेकर उनकी हत्या कर दी गयी।’’ हालांकि सिल की पत्नी और माता-पिता ने दावा किया कि वह एक दिहाड़ी मजदूर था और उसका किसी भी राजनीतिक दल से संबंध नहीं था। गायेशपुर नगरपालिका अध्यक्ष और तृणमूल नेता मारन कुमार डे ने भी भाजपा के आरोप को खारिज किया और कहा कि सिल ने खुदकुशी की।

Source:Agency News