ALL लेख
प्रदेश के कई जिलों में बारिश के आसार, यमुनोत्री हाईवे आवाजाही के लिए खुला
August 29, 2020 • Anil Kumar

 

राजधानी देहरादून समेत प्रदेश के कई जिलों में आज भी हल्की से मध्यम बारिश होने का अनुमान है। मौसम विभाग ने ज्यादातर जिलों में बारिश की संभावना जताई है।

मौसम केंद्र की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, राजधानी देहरादून, पिथौरागढ़, बागेश्वर और नैनीताल जिलों में कुछ स्थानों पर तेज बौछारें पड़ने का अनुमान है। इसके अलावा पौड़ी, रुद्रप्रयाग, चमोली, उत्तरकाशी, अल्मोड़ा, ऊधमसिंह नगर, टिहरी में हल्की से मध्यम बारिश होने का अनुमान है। 
केदारनाथ और बदरीनाथ यात्रा मार्ग अवरुद्ध
शनिवार को केदारनाथ यात्रा मार्ग रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड में अवरुद्ध रहा। वहीं बदरीनाथ हाईवे ऋषिकेश और क्षेत्रपाल में मलबा-बोल्डर आने से बंद है। लामबगड़ में बदरीनाथ हाइवे सुचारू हो गया है।जेसीबी मशीनों द्वारा मार्ग खोलने का कार्य किया जा रहा है। 

यमुनोत्री हाईवे ओजरी डबरकोट में आवाजाही के लिए खुल गया है। ओजरी डबरकोट मे कल सांय चार बजे भारी बारिश के बाद बोल्डर आने के बाद हाईवे बंद हुआ था, जिसे आज ग्यारह बजे खोल दिया गया है।

बरसात से 24 संपर्क मोटर मार्ग बंद
रुद्रप्रयाग में आए दिन हो रही मूसलाधार बारिश से जनपद में 24 मोटर मार्ग लंबे समय से अवरुद्ध हैं, जिसमें 14 मोटर मार्गों को व्यापक नुकसान हुआ है।  मार्गों को दुरुस्त करने में कई दिन लग सकते हैं, जिसके चलते एक सौ से अधिक गांवों के ग्रामीणों को बाजारों तक पहुंचने के लिए मीलों पैदल नापना पड़ रहा है।

जखोली ब्लॉक के बांगर व सिलगढ़ पट्टी के तीस से अधिक गांवों को जोड़ने वाला गोरपा-सिरवाड़ी-कुरछोला मोटर मार्ग जहां नौ अगस्त से बंद पड़ा है। वहीं, छेनागाड़-बकसीर मोटर मार्ग बरकंडी गदेरे में मलबा आने से 11 अगस्त से बंद पड़ा है, जिससे पूर्वी बांगर के दस गांवों का तहसील व जिला मुख्यालय से संपर्क कटा हुआ है।

इधर, मयाली-रणधार, रुद्रप्रयाग-चोपड़ा-कुरझण-कांडई, कांडई-कमोल्ड़ी-बरसूड़ी चाका-बुडोली, छेनागाड़-उछोला, बडियारगढ़-धौडंगी-सौंराखाल, बांसवाड़ा-कणसिल-चंद्रनगर-मोहनखाल समेत 24 मोटर मार्ग बाधित हैं। ईई लोनिवि प्रांतीय खंड रुद्रप्रयाग इंद्रजीत बोस का कहना है कि जनपद में जिन संपर्क मोटर मार्गों को कम नुकसान हुआ है, उन्हें प्राथमिकता से खोला जा रहा है। जबकि भूस्खलन व भूधंसाव से व्यापक रूप से क्षतिग्रस्त मार्गों का निरीक्षण कर नुकसान का आकलन कर स्थायी मरम्मत के लिए प्रस्ताव तैयार किए जा रहे हैं।

Source:Agency news