ALL लेख
राजधानी देहरादून से पहले इन दो शहरों के बीच चलेगी मेट्रो
October 17, 2020 • Anil Kumar

हरिद्वार-ऋषिकेश के बीच मेट्रो चलाने का प्रस्ताव राज्य कैबिनेट के सामने रखे जाने के लिए तैयार हो गया है। मेट्रो कॉरपोरेशन डीपीआर आवास विभाग को सौंप चुका है। प्रस्ताव पर गौर करें तो देहरादून से पहले हरिद्वार से ऋषिकेश के बीच मेट्रो का संचालन होगा। आवास विभाग इस पर वित्त और नियोजन के साथ अंतिम दौर की वार्ता कर रहा है। अगले महीने तक मेट्रो को कैबिनेट की हरी झंडी मिलने की उम्मीद है। 

देहरादून / हरिद्वार और ऋषिकेश को जोड़ते हुए मेट्रो ट्रेन चलाने की कसरत पर बीते चार साल से काम चल रहा है। अब उक्त प्रस्ताव ठोस रूप लेने जा रहा है। उत्तराखंड मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने प्रथम चरण में हरिद्वार और ऋषिकेश के बीच 33 किमी के ट्रैक पर मेट्रो लाइट चलाने का प्रस्ताव डीपीआर सहित आवास विभाग को सौंप दिया है। आवास विभाग ने इस पर वित्त और नियोजन से राय मांगी है, सूत्रों के अनुसार नियोजन ने प्रस्ताव पर कुछ जानकारी मांगी है।

इसके बाद प्रस्ताव अगले महीने तक राज्य कैबिनेट में रखा जा सकता है। राज्य से मंजूरी के बाद मेट्रो प्रोजेक्ट को अंतिम हरी झंडी केंद्र सरकार की तरफ से मिलेगी। प्रथम चरण में हरिद्वार-ऋषिकेश के बीच प्रस्तावित ट्रैक पर 3800 करोड़ रुपये खर्च आने का अनुमान है। प्रोजेक्ट को वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने के लिए कई अंतरराष्ट्रीय  वित्तीय एजेंसियां सहमत हैं।

डीपीआर में इस काम को 2024 तक पूरा किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। उत्तराखंड मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के एमडी जितेंद्र त्यागी ने बताया कि हरिद्वार-ऋषिकेश मेट्रो लाइट के साथ ही हरिद्वार में पीआरटी प्रोजेक्ट और चंडी देवी रोपवे के लिए भी डीपीआर अगले महीने तक पूरी हो जाएगी। 

देहरादून में ऊहापोह 
मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत देहरादून में भी आईएसबीटी- राजपुर और एफआरआई- रायपुर के बीच दो ट्रेक बिछाए जाने की डीपीआर तैयार हो चुकी है। साथ ही तीसरे चरण में देहरादून को नेपाली फार्म के पास हरिद्वार- ऋषिकेश मेट्रो से जोड़ा जाना है। इस बीच एक विचार देहरादून के आंतरिक मार्गों पर रोपवे प्रणाली विकसित करने का भी सामने आया। पिछले साल आवास मंत्री मदन कौशिक की अध्यक्षता में विदेश गए दल ने देहरादून के लिए रोपवे प्रणाली को ही फाइनल किया था, लेकिन अब तक इस पर अंतिम निर्णय नहीं हो पाया है।

Source:Hindustan samachar