ALL लेख
राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस पर उत्कृष्ठ पंचायतों को किया जायेगा पुरस्कृत, ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित
November 19, 2020 • Anil Kumar

पंचायतों को दिए जाने वाले पुरस्कारों में जिला पंचायत को प्रमाण पत्र के साथ 50 लाख रुपये की राशि, जनपद पंचायत को प्रमाण पत्र के साथ 25 लाख रुपये की राशि, ग्राम पंचायतों को उनकी जनसंख्या के अनुसार प्रमाण पत्र के साथ 5 लाख रुपये से 15 लाख रुपये तक की राशि पुरस्कार स्वरूप प्रदान की जाती है।

 

भोपाल /  राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस 24 अप्रैल 2021 के अवसर पर ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत व जिला पंचायतों को भारत सरकार पंचायती राज मंत्रालय द्वारा पुरस्कृत किया जाना है। भारत सरकार पंचायती राज मंत्रालय द्वारा उक्त पुरस्कारों के लिए उक्त तीन स्तरों की पंचायतों से विभिन्न श्रेणियों के लिए नामांकन आमंत्रित किए गए है। संचालक, पंचायती राज बी.एस.जामोद ने बुधवार को बताया कि प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस समारोह में 24 अप्रैल को भारत सरकार पंचायती राज मंत्रालय नई दिल्ली द्वारा उत्कृष्ट कार्य करने वाली पंचायतों को पुरस्कृत किया जाता है। इन पुरस्कारों के लिए ऑनलाइन नामांकन ऑनलाइन पोर्टल लिंक http//panchayataward.gov.in के माध्यम से अग्रेषित किये जा सकते है। नामांकन निर्धारित ऑनलाईन प्रपत्र में निम्नांकित श्रेणियों के लिए किए जा सकेंगे। यह मूल्यांकन वर्ष 2019-20 के आधार पर होगा।

 

इस वर्ष दिए गए यह पुरस्कार

1. दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार सामान्य और विषयात्मक श्रेणी के लिए तीनों स्तर की पंचायतों को।

2. नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा पुरस्कार- ग्राम पंचायतों को ग्रामसभा के उत्कृष्ट कार्य निष्पादन के लिए।

3. ग्राम पंचायत विकास योजना पुरस्कार- ग्राम पंचायतों को।

4. बाल हितेषी ग्राम पंचायत पुरस्कार- ग्राम पंचायतों को।

पंचायतों को दिए जाने वाले पुरस्कारों में जिला पंचायत को प्रमाण पत्र के साथ 50 लाख रुपये की राशि, जनपद पंचायत को प्रमाण पत्र के साथ 25 लाख रुपये की राशि, ग्राम पंचायतों को उनकी जनसंख्या के अनुसार प्रमाण पत्र के साथ 5 लाख रुपये से 15 लाख रुपये तक की राशि पुरस्कार स्वरूप प्रदान की जाती है। पंचायतों के चयन कार्य एवं खण्ड स्तर पर गठित समितियों के माध्यम से किया जायेगा। प्रथम स्तर, खण्ड स्तर पर चयन प्रत्यक्ष विचार विमर्श व साक्षात्कार के आधार पर होगा। आवेदक ग्राम पंचायत प्रस्तुतिकरण देगी और मूल्यांकन वर्ष में पंचायत द्वारा अर्जित उपलब्धियों को वीडियों के माध्यम से भी खण्ड स्तरीय समिति के समक्ष प्रस्तुत करेगी। इसी अनुक्रम में चयनित ग्राम पंचायत एक प्रस्तुतिकरण जिला स्तर चयन समिति के समक्ष करेगी।

 

Sources:Agency News