ALL लेख
उत्तराखंड विस सत्र 2020: विपक्ष के हंगामे के बीच सभी विधेयक पारित, सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित
September 23, 2020 • Anil Kumar

कोरोना संकट के बीच आज एक दिन का विधानसभा सत्र हंगामेदार रहा। कोरोना पर चर्चा की मांग को लेकर सदन में विपक्ष ने हंगामा किया। आरोप लगाया कि प्रदेश में कोरोना से 500 सौ से ज्यादा मौत हो चुकी हैं। इसलिए कोरोना पर चर्चा होनी चाहिए।

जिसके बाद लोहाघाट से सत्ता पक्ष के विधायक पूरण सिंह फर्त्याल ने नियम 58 के तहत कार्य स्थगन प्रस्ताव पेश किया। सूत्रों के मुताबिक उन्होंने टनकपुर जौलजीबी मोटर मार्ग के अंतर्गत फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर टेंडर करने से व्याप्त असंतोष के तहत ऐसा किया है। वहीं, इस बीच सदन में रखे सभी विधेयक पारित किए गए और सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया।

सदन की कार्रवाई के दौरान ट्रैक्टर से विधानसभा जा रहे कांग्रेस विधायकों को पुलिस ने रिस्पना पर रोक दिया, जिससे विधायक प्रीतम सिंह, काजी निजामुद्दीन, मनोज रावत समेत कई विधायक सड़क पर ही धरने पर बैठ गए। विधायक काजी निजामुद्दीन और प्रीतम सिंह ने कहा कि ट्रैक्टर से विधानसभा जाना कोई गुनाह नहीं है। पुलिस किस नियम के तहत उन्हें जाने से रोक रही है।

कुछ देर बाद इन विधायकों को ट्रैक्टर से विधानसभा जाने दिया गया। कृषि विधेयक के खिलाफ विरोध जताते हुए यह विधायक ट्रैक्टर पर विधानसभा पहुंचे। कड़ी सुरक्षा और कोविड प्रोटोकॉल के बीच विधायककों को सदन में एंट्री दी जा रही है। 

सभी मंत्री और विधायकों द्वारा पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न स्वर्गीय प्रणब मुखर्जी, पूर्व विधायक स्वर्गीय बृजमोहन कोटवाल और स्वर्गीय नारायण सिंह भैंसोङा को सदन में श्रद्धांजलि दी गई। जिसके बाद सदन की कार्यवाही शुरू हुई।

मुख्यमंत्री, मंत्री मदन कौशिक, अरविंद पांडेय, सुबोध उनियाल, रेखा आर्या, सतपाल महाराज ,विधायक मुन्ना सिंह चौहान, मुकेश कोली, भरत चौधरी, प्रीतम सिंह चौहान, प्रीतम सिंह पंवार, ममता राकेश, सुरेंद्र सिंह जीना, काजी निजामुद्दीन, मनोज रावत इत्यादि सदन में मौजूद हैं।
 
आम आदमी पार्टी ने किया विधानसभा कूच

कृषि अध्यादेश के विरोध में आम आदमी पार्टी ने विधानसभा कूच किया। पुलिस ने डिफेंस कॉलोनी गेट पर आप कार्यकर्ताओं को बैरिकेडिंग कर रोक दिया। कार्यकर्ताओं ने बैरिकेडिंग तोड़ने का प्रयास किया। पुलिस और कार्यकर्ताओं में धक्का-मुक्की भी हुई।

राज्य निर्माण के 20 साल बाद भी आंदोलनकारियों का चिह्नीकरण ना किए जाने के विरोध में राज्य आंदोलनकारियों ने विधानसभा सत्र के दौरान प्रदर्शन किया। रोजगार की मांग को लेकर उत्तराखंड बेरोजगार महासंघ के सदस्यों ने रिस्पना पुल बैरिकेडिंग के समीप विरोध प्रदर्शन किया।

सत्र में प्रश्नकाल नहीं हुआ
विधानसभा से मिली जानकारी के मुताबिक सत्र में प्रश्नकाल नहीं हुआ। सरकार की ओर से करीब 19 विधेयक लाए गए।  प्रश्नकाल न होते हुए भी सदन में कार्यस्थगन प्रस्तावों को लाने की अनुमति दी जा चुकी है। कांग्रेस ने भी कार्यस्थगन प्रस्तावों के जरिए ट्रेजरी बैंच को घेरने की पूरी रणनीति बनाई है। ऐसे मे सदन में हंगामे के भी आसार रहेंगे। 
सत्र में नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के साथ ही स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल भी नहीं हैं।

मंत्री धन सिंह रावत कोरोना पॉजिटिव होने के कारण सदन में नहीं हैं। इसी तरह परिवहन मंत्री यशपाल आर्य वर्चुअल शामिल हैं। 

कैग रिपोर्ट भी रखी जाएगी सदन के पटल पर

सदन में कैग रिपोर्ट भी रखी जाएगी और कुछ विभागों के वार्षिक प्रत्यावेदन भी रखे जा सकते हैं। जानकारी के मुताबिक कैग की यह रिपोर्ट राज्य के वित्तीय हालात पर है।

मंगलवार को मंत्री धन सिंह रावत, दो अन्य विधायक मिले संक्रमित

सत्र से ठीक एक दिन पहले कोरोना का साया और गहरा गया है। मंगलवार को देर शाम तक उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत, कांग्रेस के उपनेता करन माहरा और सत्ता पक्ष के विधायक पुष्कर धामी की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इनके टेस्ट सोमवार को हुए थे। 

मंगलवार को विधायक आवास मेें राम सिंह कैड़ा, महेंद्र भट्ट, सुरेंद्र सिंह जीना, शक्ति लाल शाह, मुन्नी देवी, धन सिंह नेगी, सुरेंद्र सिंह नेगी, आदेेेश चौहान (बीएचईएल रानीपुर), मुन्ना सिंह चौहान के टेस्ट हुए। इसके अलावा वन मंत्री हरक सिंह रावत और शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने भी कोविड टेस्ट कराया।

विधायकों के अलावा विधानसभा कर्मियों के भी मंगलवार को टेस्ट किए गए। विधानसभा से मिली जानकारी के मुताबिक कुल 62 कर्मियों के टेस्ट हुए। इनमें से विधानसभा के डिप्टी मार्शल लक्ष्मण सिंह रावत भी संक्रमित पाए गए।

सदन में अब प्रीतम सिंह कांग्रेस के संकट मोचक 
एक दिन के सत्र में अब कांग्रेस का सारा दारोमदार प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह पर आकर टिक गया है। मंगलवार को उनकी कोविड रिपोर्ट निगेटिव आने से कांग्रेस को राहत मिली है। 

नेता प्रतिपक्ष की गैर मौजूदगी के बाद उपनेता करन माहरा भी सदन में नहीं हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक गोविंद सिंह कुंजवाल सत्र में वर्चुअल जुड़ रहे हैं और यह सदन की कार्यवाही के दौरान ही साफ हो पाएगा कि उनकी उपस्थिति कितनी कारगर होती है। 

कांग्रेस के कुल 11 विधायक हैं। नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश, धारचूला विधायक हरीश धामी, रानीखेत विधायक करन माहरा कोरोना संक्रमित होने के कारण सदन में नहीं हैं। बताया जा रहा है कि फुरकान अहमद का स्वास्थ्य भी सही नही है। इसी तरह पुरोला विधायक राजकुमार भी स्वस्थ महसूस नहीं कर रहे हैं।

ऐसे में कांग्रेस विधायकों की संख्या सदन में केवल पांच ही है। प्रीतम के लिए राहत की बात ये है कि उनके साथ मंगलौर विधायक काजी निजामुद्दीन, केदारनाथ विधायक मनोज रावत, ममता राकेश और आदेश चौहान की मौजूदगी है।

Source:Agency News